Friday, 22 April 2016

हिंदी दिवस एवं हिदी पखवाड़ा का आयोजन: राजभाषा विभाग

सं0 11034/15/2015-रा.भा. (नीति)
राजभाषा विभाग
पत्रिका अनुभाग

दिनांक: 26 फरवरी, 2016
कार्यालय ज्ञापन


विषय : हिंदी दिवस एवं हिदी पखवाड़ा का आयोजन।


सरकारी कामकाज मैं राजभाषा हिदी के प्रति जागरूकता तथा उसके उत्तरोत्तर प्रयोग में गति लाने के उद्देश्य से केंद्रीय सरकार के मेत्रालयों/ विभागों/कार्यालयों/उपक्रमोें/बैंकों आदि में हर वर्ष सितम्बर माह मे "हिंदी पखवाडा" आयोजित किया जाता है। इस आयोजन में हिंदी का प्रयोग बताने के लिए और अधिक प्रभावी बनाने के उदृेश्य से निम्न दिशा-निर्देश जारी करने का निदेश हुआ है:

(क) हिंदी पखवाड़ा आरंभ होने के पूर्व मंत्रालय/ विभाग/कार्यालय में कार्यरत अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा हिंदी मे किए गए कामों की समीक्षा की जाए और उत्कृष्ट कार्य करने बाले अधिकारियों/कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जाए।

(ख) हिंदी पखवाड़े के दौरान ऐसी प्रतियोगिताएं आयोजित की जाए, जिनका संबंध सरकारी कामकाज से हो और साथ ही साथ वह राजभाषा का प्रयोग बढ़ाने में सहायक हों,

(ग)आईटी क्षेत्र में हिंदी के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए प्रतियोगिताओं मे कंप्यूटर पर हिंदी के प्रयोग संबंधी विषयों को भी जोड़ा जाए;

(घ) हिंदी पखवाड़ा 1 सितम्बर से 15 सितम्बर तक (15 दिन) मनाया जाए, इन तिथियों में सुविधानुसार परिवर्तन किया जा सकता है, किंतु मुख्य समारोह
14 सितंबर को हो आयोजित किया जाए;

(ङ) राजभाषा विभाग द्वारा जारी माननीय गृह मंत्रालय जी का संदेश मुख्य समारोह में पढ़ा जाए, और इसकी प्रति सभी मंत्रालयों/ विभागों/ अधीनस्थ  कार्यालयों आदि को भिजवाई जाए;

(च) इस अवधि के दौरान या आसपास प्रकाशित की जाने वाली गृह पत्रिकाओं आदि को "रांजभाषा विशेषांक" के रूप मे प्रकाशित किया जाए;

(छ) हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषाओं के विकास में योगदान देने वाले हिंदी व हिंदीतर लोगों के योगदान को उजागर किया जाए, इसके लिए कार्यक्रमों, चर्चाओं, कार्यशालाओं आदि का आयोजन किया जाए;

(ज) कार्यक्रम एक ही दिन आयोजित करने की बजाए पूरे पखवाड़े के दौरान आयोजित किए जाए और इन कार्यक्रमों मे वरिष्ठ अधिकारियों तथा मंत्रियों की भागीदारी सुनिश्चित की जाए;

(झ)उपर्युक्त कार्यक्रमों का मंत्रालय/विभाग के सचिवालय संबंद्ध कार्यालयों और उपक्रमों में व्यापक प्रचार किया जाए और "हिंदी पखवाड़ा" मनाने के विषय में विस्तृत रिपोर्ट राजभाषा विभाग को उपलब्ध कराया जाए; और

() पुरस्कार राशि एवं आयोजन पर होने वाले व्यय का निर्धारण मंत्रालय/विभाग/कार्यालय द्वारा अपने विवेकानुसार आंतरिक वित्त विभाग के अनुमोदन से किया जाय।

इसे सचिव (राभा) के अनुमोदन से जारी किया जाता है।

(डॉ. श्रीप्रकाश शुक्ल)
संयुक्त निदेशक (नीति/पत्रिका)

Source: http://rajbhasha.nic.in/UI/Newdetails.aspx?id=161


& staffnews.i