Sunday, 19 August 2012

Central Government Health Scheme

Senior citizens and retired personnel who have worked in Central Government bodies are assured of their health care needs through the Central Government Health Scheme or CGHS. This scheme for pensioners provides medical assistance to retired central government officials along with their dependents, freedom fighters and widows of government officials. The CGHS Scheme also covers Delhi police personnel, retired judges of the Supreme Court, Parliament secretaries and their families.

Moreover, along with Ex-Governors and Ex-Vice Presidents of India, accredited journalists are also eligible to be covered under the Central Government’s Health Scheme. The Central Government Health Scheme initially started functioning in Delhi. After a few years, it spread to cities such as Allahabad, Ahmedabad, Bangalore, Mumbai, Chennai, Kolkata, Hyderabad, Jaipur and Patna.

The Central Government Health Scheme offers health services through Allopathic and Homeopathic systems as well as through traditional Indian forms of medicine such as Ayurveda, Unani, Yoga and Siddha. These medical facilities are provided through dispensaries and polyclinics. Chief medical officers and medical officers operate these dispensaries and are responsible for the smooth functioning of the scheme.

The main components of the scheme are dispensary services including domiciliary care, specialist consultation facilities, X-ray, Electro Cardiogram (ECG), laboratory testing, hospitalization, purchase and distribution of medicines and provision of health education. Here is a list of private hospitals and diagnostic centres (External website that opens in a new window) recognized under the Central Government Health Scheme.

केंद्रीय सरकार स्‍वास्‍थ्‍य योजना

केंद्र सरकार के निकायों में कार्य कर चुके वरिष्‍ठ नागरिकों और सेवानिवृत्‍त कर्मचारियों की स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा संबंधी जरुरतों को केंद्रीय सरकार स्‍वास्‍थ्‍य योजना अथवा सीजीएचएस के जरिए पूरा किया जाना सुनिश्‍चित किया जाता है। पेंशनभोगियों की यह योजना सेवानिवृत्‍त केंद्रीय सरकारी कर्मचारियों की विधवाओं को चिकित्‍सा सहायता मुहैया कराती है। सीजीएचएस योजना दिल्‍ली पुलिस के कर्मचारियों, सर्वोच्‍च न्‍यायालय के सेवानिवृत्त न्‍यायाधीशों, संसद सचिवों और उनके परिवारों पर भी लागू होती है।

इसके अलावा, भूतपूर्व राज्‍यपाल और भारत के भूतपूर्व उपराष्‍ट्रपति, अधिकृत पत्रकार भी केंद्रीय सरकार स्‍वास्‍थ्‍य योजना में शामिल होने के पात्र हैं। प्रारंभ में, केंद्रीय सरकार स्‍वास्‍थ्‍य योजना दिल्‍ली में शुरू की गई थी। कुछ वर्षों के बाद यह इलाहाबाद, अहमदाबाद, बैंगलोर, मुंबई, चेन्‍नै, कोलकाता, हैदराबाद, जयपुर और पटना जैसे नगरों में भी पहुंच गई।

केंद्रीय सरकार स्‍वास्‍थ्‍य योजना एलोपैथिक और होम्‍योपैथिक प्रणालियों तथा चिकित्‍सा की परम्‍परागत भारतीय पद्धतियों जैसे कि आयुर्वेद, यूनानी, योग और सिद्धा, के जरिए स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं प्रदान करती हैं। ये चिकित्‍सा सुविधाएं औषधालयों और बहु रोग चिकित्‍सालयों (पॉली‍क्‍लीनिक) के जरिए मुहैया की जाती हैं। मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी और चिकित्‍सा अधिकारी इन औषधालयों को संचालित करते हैं और इस योजना के सही संचालन के लिए जिम्‍मेदार हैं।

इस योजना के मुख्‍य घटक औषद्यालय सेवाएं हैं जिनमें आवास पर देखभाल, विशेषज्ञ से परामर्श की सुविधा, एक्‍स रे, ईसीजी, प्रयोगशाला जांच, अस्‍पताल में भर्ती करना, औषधियों की खरीद एवं वितरण और स्‍वास्‍थ्‍य शिक्षा की व्‍यवस्‍था शामिल हैं। नीचे केंद्रीय सरकार स्‍वास्‍थ्‍य योजना के तहत मान्‍यता प्राप्‍त निजी अस्‍पतालों और निदान केंद्रों की सूची (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं)।
Source - india.gov.in

No comments:

Post a Comment

RAIL NEWS CENTER